‘व्यंग्य यात्रा’ का संस्मरण विशेषांक - विश्वहिंदीजन

अभी अभी

हिंदी भाषा सामग्री का ई संग्राहलय

सामग्री की रिकॉर्डिंग सुनने हेतु नीचे यूट्यूब बटन पर क्लिक करें-

समर्थक

गुरुवार, 16 मार्च 2017

‘व्यंग्य यात्रा’ का संस्मरण विशेषांक




मित्रों ,‘व्यंग्य यात्रा’ के संस्मरण विशेषांक की घोषणा ने न केवल रचनात्मक धरातल पर एक अलग दृष्टि से लिखे गए संस्मरणों के लेखन को गति दी है अपितु इस विषय पर एक बहस भी छेड़ी है। फेसबुक पर सार्थक बहस के सजग फेसबुकीय सक्रिय रचनाकार सुरेश कांत और सुशील सिद्धर्थ जैसे चिंतकों ने संस्मरण लेखन पर व्यापक बहस ही छेड़ दी।
‘व्यंग्य यात्रा’ के संस्मरण विशेषांक के लिए आपने इताना दिया कि आंचल ही न समाए तो क्या कीजे । कहां मैं सोच रहा था कि इस बार 96 पृष्ठ से अधिक का अंक नहीं निकालूंगा और कहां यह कि यही अंक 124 पृष्ठ का है। इक्यावनवां अंक भी इतने ही पृष्ठ का होने वाली है। इस अंक में सभी को समेटने के लिए पत्रिका के अनेक स्थायी स्तंभों - चंदन घिसें , त्रिकोणीय, पद्य व्यंग्य, समीक्षा आदि का बलिदान करना पड़ा है । मैं अपने उन सभी रचनकारों से क्षमा मांग रहा हूं जिनसे आग्रहपूर्वक लिखवाया पर इस अंक में प्रकाशित नहीं कर पा रहा हूं। इसी कारण यह निर्णय भी लिया कि ‘व्यंग्य यात्रा’ का आगामी 51वां अंक भी संस्मरण विशेषांक होगा। अगले अंक की लगभग अस्सी प्रतिशत सामग्री मेरे सुरक्षित है।

पाथेय:धंर्मवीर भारती] हरिशंकर परसाई, रवीन्द्रनाथ त्यागी,नरेंद्र कोहली,रवीन्द्र कालिया,चित्रा मुद्गल सुभाष पंत बालेन्दु शेखर तिवारी ,श्यामसुंदर घोष 

चिंतनः यशवंत व्यास, रत्नावली कौशिक

संस्मरण: रमेश चंद्र शाह,अरविंद कुमार, रमेश उपाध्याय, प्रदीप पंत , विष्णु नागर ,ज्ञान चतुर्वेदी, हरीश नवल, प्रताप सहगल, सुरेश सेठ, सुरेश कांत, सुभाष चंदर, सूरज प्रकाश , हरि जोशी, कैलाश मण्डलेकर, अरविन्द तिवारी, सुशील सिद्धार्थ , मधुरिमा कोहली, जवाहर चौधरी सूर्यकांत नागर गिरीश पंकज, अतुल चतुर्वेदी, सी.भास्कर राव, ब्रजेश कानूनगो लालित्य ललित , प्रहलाद श्रीमाली , वागीश सारस्वत बिष्णुस्वरूप श्रीवास्तव, अनूप शुक्ल ,एम.एम. चन्द्रा, संतोष त्रिवेदी, पिलकेन्द्र अरोडा मनमोहन सरल दिलीप तेतरवे, फारूक आफरीदी, राजेश श्रीवास्तव, रास बिहारी गौड, श्याम सखा श्याम सुमित प्रताप सिंह , के. पी. सक्सेना ‘दूसरे’ विजी श्रीवास्तव,श्याम विमल, गोविंद शर्मा, गौरव त्रिपाठी , संजीव निगम, अलका अग्रवाल सिगतिया , राम विलास शास्त्री ,गोपी बूबना।
एक टिप्पणी भेजें